पगडंडी Mukteshwar Prasad Singh द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

पगडंडी

Mukteshwar Prasad Singh द्वारा हिंदी लघुकथा

पगडंडी​​​​​​​​​ ​​आज मंजू का सब कुछ उजड़ गया। इस कारण नहीं कि भूकंप आया था या सुनामी लहर आयी थी या फिर तूफानी वर्षा या बाढ़। आज सिर्फ उसकी ही दुनियां उजड़ी थी। आज उसके पति सुबोध ने जीवन ...और पढ़े