तपते जेठ मे गुलमोहर जैसा - 15 Sapna Singh द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

तपते जेठ मे गुलमोहर जैसा - 15

Sapna Singh मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

सुविज्ञ ने कार पोर्च में खड़ी की...... अप्पी गेट में ताला बंद कर रही थी......। ’’मैं कर दूँ......’’ सुविज्ञ एक दम पास आ गये थे.....’’ ’’बस हो गया......’’ अप्पी ने कहा और दोनो साथ ही अंदर आ गये...... अप्पी ने दीवान ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प