तपते जेठ मे गुलमोहर जैसा - 13 Sapna Singh द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

तपते जेठ मे गुलमोहर जैसा - 13

Sapna Singh मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

सुविज्ञ जब हाॅस्पिटल से घर आये थे... तो लाॅन में अप्पी को देख जानी कैसी खिन्नता मन में उठी थी.... वह सुरेखा के साथ खुश थे..... एक भरे पूरे पन का एहसास, एक निश्चिंतता थी उसके होने पर! पर, ...और पढ़े