पथ भाग २ Rajesh Maheshwari द्वारा प्रेरक कथा में हिंदी पीडीएफ

पथ भाग २

Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी प्रेरक कथा

लाभ हमारे कारखाने को आगे जाकर प्राप्त हुआ। यदि हम ऐसा लिखित अनुबन्ध नहीं करते तो श्रमिकों को आठ किलोमीटर से अधिक स्थानान्तरित नहीं कर सकते थे। हमारे बैंक के कर्जे मजदूरों को मुआवजा और ग्रेच्युटी आदि के भुगतान ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प