सड़कछाप - 7 dilip kumar द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

सड़कछाप - 7

dilip kumar Verified icon द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

काफी देर बाद सरोजा के होशोहवास काबू में आये। उसे लगता था कि उसका सारा शरीर किसी ने आरी से टुकड़े-टुकड़े कर दिया हो। पूरे बदन के पोर-पोर से बेपनाह दर्द उठ रहा था। पूरा मुंह नोचा-सूजा हुआ था। ...और पढ़े