ब्रह्म का अर्थ व आदि गुरु शंकराचार्य का अद्वैत दर्शन Dr. Bhairavsinh Raol द्वारा आध्यात्मिक कथा में हिंदी पीडीएफ

ब्रह्म का अर्थ व आदि गुरु शंकराचार्य का अद्वैत दर्शन

Dr. Bhairavsinh Raol मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी आध्यात्मिक कथा

ब्रह्म का अर्थ व आदि गुुरु शंकराचार्य का अद्वैत दर्शन :वेदों के अनुसार ब्रह्म : ब्रह्मांड शक्ति को वेदों में 'ब्रह्म' कहा गया है। ब्रह्म को आजकल लोग ईश्वर, परमात्मा, परमेश्वर, प्रभु, सच्चिदानंद, विश्वात्मा, सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापक, भर्ता, ग्रसिष्णु, प्रभविष्‍णु ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प