सोने की दस अँगूठियाँ …. Piyush Goel द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

सोने की दस अँगूठियाँ ….

Piyush Goel द्वारा हिंदी लघुकथा

कुशागढ़ के राजा तेजस्वी अपनी प्रजा का बड़ा ही ख़याल रखते थे. समय समय पर अपनी प्रजा से मिलना और महीने में एक बार अपने दरबार में विशिष्ट नागरिकों को आमंत्रित करते थे प्रजा के उन लोगों को सम्मानित ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प

-->