ग्यारह अमावस - 48 Ashish Kumar Trivedi द्वारा थ्रिलर में हिंदी पीडीएफ

ग्यारह अमावस - 48

Ashish Kumar Trivedi मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी थ्रिलर

(48)दीपांकर दास ने ध्यान से उस शख्स को देखा। उसे पहचान कर उसने आश्चर्य से कहा,"तुम ? यहाँ कैसे आए ?"उसके सामने शिवराम हेगड़े खड़ा था। उसके चेहरे पर ऐसे भाव थे जैसे कि वह कुछ समझ ही ना ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प