एक सफर ऐसा भी... Shwet Kumar Sinha द्वारा हास्य कथाएं में हिंदी पीडीएफ

एक सफर ऐसा भी...

Shwet Kumar Sinha मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी हास्य कथाएं

बात करीब बीस वर्ष पुरानी है। मैं अपने माता–पिता और छोटी बहन के साथ लोकल ट्रेन पकड़ दूसरे शहर को जा रहा था। ट्रेन के जिस डब्बे में हम सब चढ़े थें, उसमें भीड़–भाड़ न के बराबर थी। इसलिए, ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प

-->