ताश का आशियाना - भाग 13 Rajshree द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

ताश का आशियाना - भाग 13

Rajshree मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी लघुकथा

बनारस की वो मनमोहक सुबह, गंगा के शितल जल से सुर्य स्नान करके खुदकी दमकती शक्ल पूरे वाराणसी को दिखा रहा था।दूसरी तरफ"आ ! मेरा गला" रागिनी का गला पूरी तरह सूख रहा था अब कुछ देर बाद गला ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प