गुनाहों का देवता - 30 Dharmveer Bharti द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

गुनाहों का देवता - 30

Dharmveer Bharti मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

भाग 30 ''सुधा, यह तो सच है कि मैंने तुम्हारे मन को बहुत दुखाया है, लेकिन तुम तो हमारी हर बात को, हमारे हर क्रोध को क्षमा करती रही हो, इस बात का तुम इतना बुरा मान गयी?'' ''किस ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प