लौट के बुद्धू घर को आये (अंतिम किश्त) किशनलाल शर्मा द्वारा हास्य कथाएं में हिंदी पीडीएफ

लौट के बुद्धू घर को आये (अंतिम किश्त)

किशनलाल शर्मा मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी हास्य कथाएं

"मैं तो छोटे थे तब एक शादी में आये थे।"मरी सी आवाज में उस बुजर्ग ने जवाब दिया था।ड्राइवर ने कंडक्टर से कहा"नीचे उतरकर पता लगाओ ज़रा।"दूल्हे के बड़ा भाई ही कर्ता धर्ता था।उसी ने रिश्ता तय किया था।वो ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प