द्रौपदी की व्यथा (अंतिम भाग) किशनलाल शर्मा द्वारा पौराणिक कथा में हिंदी पीडीएफ

द्रौपदी की व्यथा (अंतिम भाग)

किशनलाल शर्मा मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी पौराणिक कथा

"इन सब बातों को कौन मानेगा?"युधिष्ठिर बोला,"मां ने धर्म विरुद्ध और अनैतिक काम ही नही किया।पति को भी धोखा दिया।""तुम्हारे मुह से धर्म की बाते अछी.नही लगती",अपने पति की बात सुुनकर द्रौपदी बोली थी।"कृष्णे।यह तुम क्या कह ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प