अनोखा जुर्म - भाग-9 Kumar Rahman द्वारा जासूसी कहानी में हिंदी पीडीएफ

अनोखा जुर्म - भाग-9

Kumar Rahman मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी जासूसी कहानी

सलाम नमस्ते,‘मौत का खेल’ उपन्यास पहले लिखना शुरू किया था. इस बीच मन में ‘अनोखा जुर्म’ का प्लाट भी तैयार हो गया. इसलिए उसे भी लिखना शुरू कर दिया. पाठकों की शिकायत है कि उनके मन में दोनों कहानियां ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प