जिहाद (मुंशी प्रेमचंद) Satish Thakur द्वारा पुस्तक समीक्षाएं में हिंदी पीडीएफ

जिहाद (मुंशी प्रेमचंद)

Satish Thakur मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी पुस्तक समीक्षाएं

''बहुत पुरानी बात है।हिंदुओं का एक काफ़िला अपने धर्म की रक्षा के लिए पश्चिमोत्तर के पर्वत-प्रदेश से भागा चला आ रहा था। मुद्दतों से उस प्रांत में हिंदू और मुसलमान साथ-साथ रहते चले आये थे। धार्मिक द्वेष का नाम ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प