क्या कहूं...भाग - ६ Sonal Singh Suryavanshi द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

क्या कहूं...भाग - ६

Sonal Singh Suryavanshi द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

विवान को आॅफलाइन देखकर स्मृति फिर से मायूस हो जाती है। वो बात करने के लिए जितनी उत्सुक थी, उसकी सारी उत्सुकता उदासी में बदल गई। "मैंने बहुत जल्दबाजी में उससे सवाल पूछ लिया...धत्त.. मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प