प्रेमचन्द का समाज कृष्ण विहारी लाल पांडेय द्वारा मानवीय विज्ञान में हिंदी पीडीएफ

प्रेमचन्द का समाज

कृष्ण विहारी लाल पांडेय द्वारा हिंदी मानवीय विज्ञान

कृष्ण विहारी लाल पाण्डे लेख- प्रेमचन्द का समाजहिंदी कथा साहित्य के प्रतीक रचनाकार प्रेमचंद के अन्य प्रदेशों के साथ उनकी प्रासंगिकता का विशेष उल्लेख किया जाता है । प्रासंगिकता के 2 आयाम होते हैं -एक अपने समय में सार्थक ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प