इंसानियत - एक धर्म - 33 राज कुमार कांदु द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

इंसानियत - एक धर्म - 33

राज कुमार कांदु मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

” गलत कह रही है तू बदजात लड़की ! किसी इस्लामी जानकार ने उस क़ानून का इस्तकबाल नहीं किया । खुदा के कहर से डर नाफरमान लड़की ! तुझे इल्म भी है तू क्या फरमा रही है ? खुदा ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प