चिराग़-गुल Deepak sharma द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

चिराग़-गुल

Deepak sharma मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी सामाजिक कहानियां

चिराग़-गुल बहन की मृत्यु का समाचार मुझे टेलीफोन पर मिला. पत्नी और मैं उस समय एक विशेष पार्टी के लिए निकल रहे थे. पत्नी शीशे के सामने अपना अन्तिम निरीक्षण कर रही थी और मैं तैयार कबाबों से भरे ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प