हमारे पास कितना कम समय है कृष्ण विहारी लाल पांडेय द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

हमारे पास कितना कम समय है

कृष्ण विहारी लाल पांडेय द्वारा हिंदी कविता

केबीएलपांडेकेगीत गीत हमारेपासकितनाकमसमयहै डालपर अब पक न पातेफल हमारेपासकितनाकमसमयहै कौनमौसमकेभरोसेबैठताहै चाहतोंकेलिएपूरीउम्रकमहै मंडियांसंभावनाएंतौलती है स्वादकेबाजारकाअपनानियमहै मिट्ठूओ कावंशहैभूखा यहांतकआगये दुर्भिक्षभयहै डालपरअब पक नपातेफलहमारेपासकितनाकमसमयहै हरेबनकेसिर्फकुछविवरणबचेहैं भरीमठमेंलीउदासीक्यारियोंमें आगकीबातेंहवामेंउड़रहीहैं आजठंडीहोरहीजिनगाड़ियोंमें वहइससेक्यासारणिकलेगा यहांपरआरंभसेनिसकरसकताहै डालपर अब पक न पातेफल हमारेपासकितनाकमसमयहै वहांजानेक्याविवेचनचलरहाहै सभी केवक्तव्यबेहदतीखे ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प