दो बाल्टी पानी - 32 Sarvesh Saxena द्वारा हास्य कथाएं में हिंदी पीडीएफ

दो बाल्टी पानी - 32

Sarvesh Saxena मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी हास्य कथाएं

ये कहकर जैसे ही बब्बन हलवाई ने बाल्टी उठाई तो उसका हांथ किसी ने पकडा, उसने नजर उठाकर देखा तो सामने सुर्ख लाल साडी मे एक औरत थी जिसका चेहरा साडी के पल्लु से पूरी तरह ढका था | ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प