दो लघुकथाए SURENDRA ARORA द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

दो लघुकथाए

SURENDRA ARORA द्वारा हिंदी लघुकथा

भटकाव " थोड़ी देर रुक कर जाना." जैसे ही वो निकलने को हुआ, कविता ने टोक दिया. " मैं फ्री हो चुका हुँ. अब रुकने की क्या जरुरत है ? " वह बोल तो गया फिर उसने कुछ सोचते ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प