ये मेरा और तुम्हारा संवाद है #कृष्ण – 2 Meenakshi Dikshit द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

ये मेरा और तुम्हारा संवाद है #कृष्ण – 2

Meenakshi Dikshit द्वारा हिंदी कविता

1. तुम्हारे स्वर का सम्मोहन तुम्हारे अनुराग की तरह, तुम्हारे स्वर का सम्मोहन भी अद्भुत है, अपनत्व की सघनतम कोमलता, और सत्य की अकम्पित दृढ़ता का ये संयोग तुम्हारे पास ही हो सकता है. और स्वरों के इसी अपरिमेय ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प