मानव का खोखला जिवन रनजीत कुमार तिवारी द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

मानव का खोखला जिवन

रनजीत कुमार तिवारी द्वारा हिंदी सामाजिक कहानियां

जिवन अनमोल है, यूं व्यर्थ न गवाइए।अपने कुछ पल मानवता में भी लगाइए।।धरा है पाप से सहमी,आओ मिलकर उद्धार करें।मातृभूमि की रक्षा करें,ऐसा मन में सब बिचार करें।।हवा हो गयी है दुषित, पेड़ों को हम काट रहें।पानी में है ...और पढ़े


अन्य रसप्रद विकल्प

-->