वो चला गया Kalyan Singh द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

वो चला गया

Kalyan Singh द्वारा हिंदी लघुकथा

“ बहन जी ! अब तो लगता है कि विकास का इलाज़ यहाँ पर हो पाना संभव नहीं हैं।” - सरोज ' दीदी जी ' अपनी परेशानी मम्मी से बताते हुए बोली। “ दरअसल हमारे यहाँ महिला टीचर को ...और पढ़े