साइबर घोस्ट Chandresh Kumar Chhatlani द्वारा डरावनी कहानी में हिंदी पीडीएफ

साइबर घोस्ट

Chandresh Kumar Chhatlani द्वारा हिंदी डरावनी कहानी

"नहीं... अंदर मत आना... " दरवाज़ा खोलते ही चीखते हुए स्वर आया। आवाज़ दिया की ही थी। "बेटा, मैं हूँ - मम्मा।" कहते हुए उसकी माँ उस अंधेरे कमरे में आगे बढ़ी, पीछे पिता थे। दोनों धीमे-धीमे कदमों से ...और पढ़े