बिराज बहू - 2 Sarat Chandra Chattopadhyay द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

बिराज बहू - 2

Sarat Chandra Chattopadhyay मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी सामाजिक कहानियां

लगभग डेढ़ माह बाद... नीलाम्बर का बुखार आज सुबह उतर गया। बिराज ने उसके कपड़े बदल दिए। फर्श पर बिस्तर बिछा दिया। नीलाम्बर लेटा हुआ खिड़की की राह एक नारियल के पेड़ को देख रहा था। हरिमती उसे पंखा झल ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प