सिर्फ जिस्म नहीं मैं - 1 Divya Sharma द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

सिर्फ जिस्म नहीं मैं - 1

Divya Sharma मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

मैं सिर्फ एक जिस्म नहीं..शॉवर के नीचे खड़ी हो अपने शरीर को तेज हाथों से रगड़ने लगी।हाथों का दबाव लगातार बढता जा रहा था और आँखों से निकलता सैलाब बंध तोड़कर बह रहा था।शरीर के हर हिस्से पर साबुन ...और पढ़े