चाकर राखो जी... Sapna Singh द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

चाकर राखो जी...

Sapna Singh Verified icon द्वारा हिंदी सामाजिक कहानियां

चारू तुम भी आ रही हो न हमारे साथ ---!’’ लंच ब्रेक में उसकी मेज की ओर आती हुई मालती ने पूछा था ‘‘कहां भाई.......?’’ उठते हुए पूछा उसने ‘‘ल्यो...... इनको कुछ खबर ही नहीं रहती - अरे भई, ...और पढ़े