मनचाहा - 37 V Dhruva द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

मनचाहा - 37

V Dhruva Verified icon द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

सुबह उठकर ही मैंने अवि को कॉल किया के मुझे अभी मिलना है। अवि- अभी तो सोया हुआ हुं जान। क्या बात है? मै- आप रेडी हो जाइए, हम मिलते है कॉफी शॉप पर। मिलकर बताती हुं। मै नहा ...और पढ़े