मनचाहा - 33 V Dhruva द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

मनचाहा - 33

V Dhruva Verified icon द्वारा हिंदी उपन्यास प्रकरण

घूमते घूमते हम थिएटर पौने तीन बजे पहुंचे। मेरा प्लास्टर वाला पैर देखकर सब मुझे ही देखे जा रहे थे। मैंने निशु से कहा- यार ये सब लोग मुझे ही देख रहे है। निशु- देखने दे, हमें यहां मूवी ...और पढ़े