मैं सच नहीं बोलूँगी.! Pranav Vishvas द्वारा महिला विशेष में हिंदी पीडीएफ

मैं सच नहीं बोलूँगी.!

Pranav Vishvas द्वारा हिंदी महिला विशेष

तेज़ बिजली की कड़कड़ाहट से मेरी नींद टूट गई, खैर बड़ी मुश्किल से आई थी मैं बिस्तर पर उठकर बैठ गई, साथ वाले तकिए को देखा जों सूना पड़ा था, ऐसा लगा जैसे कितना कुछ कहना चाहता है मगर ...और पढ़े