एक सच : आरंभ ही अंत Smit Makvana द्वारा हास्य कथाएं में हिंदी पीडीएफ

एक सच : आरंभ ही अंत

Smit Makvana द्वारा हिंदी हास्य कथाएं

एक सच: आरंभ ही अंत PART-1 में(निखिल) कॉलेज में था, पापा(जगदीसभाई) काम पर और माँ(रवीनाबेन) घर पे, छोटा भाई(आयुष) भी स्कूल में गया था। सोमवार से लेकर शनिवार तक हम लोगो की ज़िंदगी ऐसे ही चलती रहती थी।रविवार के दिन पापा ...और पढ़े