पत्नी महिमा Ajay Amitabh Suman द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

पत्नी महिमा

Ajay Amitabh Suman मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी कविता

(१) पत्नी महिमा लाख टके की बात है भाई,सुन ले काका,सुन ले ताई।बाप बड़ा ना बड़ी है माई,सबसे होती बड़ी लुगाई। जो बीबी के चरण दबाए ,भुत पिशाच निकट ना आवे।रहत निरंतर पत्नी तीरे,घटत पीड़ हरहिं सब ...और पढ़े