दूर है किनारा Anju Sharma द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

दूर है किनारा

Anju Sharma मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी लघुकथा

तपन ने आसमान की ओर सर उठाकर देखा तो कुछ देर बस देखता ही रहा! आकाश तो वहां भी था पर इतना खुला कभी नहीं लगा, खूब खुला, निस्सीम, अनंत! और येहवा, ये भी तो वहां थी पर इतनी ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प