चम्पा चुड़ैल Swatigrover द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

चम्पा चुड़ैल

Swatigrover मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी लघुकथा

बड़ी देर से खुद को शीशे मैं निहारते हुए बोली, "कि अब पहले सेज्यादा डरावनी लग रही हूँ । त्वचा बिलकुल काली हो गई हैं। और धीरे-धीरे कुत्ते के मॉस की तरहलटकने भी लगी हूँ । दाँत बिलकुल नुकीले ...और पढ़े