गोरिया चुरवलू दिलवा मोर हो Rakesh Kumar Pandey Sagar द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

गोरिया चुरवलू दिलवा मोर हो

Rakesh Kumar Pandey Sagar द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

स्नेही पाठकों, केहू सच ही लिखले बाटे कि प्यार बा त जग में बहार बा,प्यार बिना जिंदगी बेकार बा। वोही प्यार के बारिश में भीगल कुछ पंक्ति प्रस्तुत बाटें.... १-"गोरिया चुरवलू दिलवा मोर हो" सांवरी सुरतिया बा, मोहनी मूरतिया, ...और पढ़े