मजदूर बाजार Rajesh Kumar Dubey द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

मजदूर बाजार

Rajesh Kumar Dubey द्वारा हिंदी लघुकथा

भीड़ में हलचल मच गई। सोनेलाल जब भी आता है, सब उसे जिज्ञासा से देखने लगते हैं। मंजरी चहक गई। सुरती ने चुटकी लेते हुए कहा, “देख तेरा यार आ गया” मंजरी ने झिडकते हुए कहा- हट ! तुझे ...और पढ़े