नुत्फ़ा Saadat Hasan Manto द्वारा लघुकथा में हिंदी पीडीएफ

नुत्फ़ा

Saadat Hasan Manto मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी लघुकथा

मालूम नहीं बाबू गोपी नाथ की शख़्सियत दर-हक़ीक़त ऐसी ही थी जैसी आप ने अफ़्साने में पेश की है, या महज़ आप के दिमाग़ की पैदावार है, पर मैं इतना जानता हूँ कि ऐसे अजीब-ओ-ग़रीब आदमी आम मिलते हैं....... ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प