शामिल Ajay Amitabh Suman द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

शामिल

Ajay Amitabh Suman Verified icon द्वारा हिंदी कविता

1.शामिल तो हो तुम मेरे दश्त-ए-तसव्वुर ,फ़क़त कमी यही कि नसीब मेंनहीं हो। दश्त-ए-तसव्वुर:ख्वाब[Desert of imagination] 2.मैंने कब चाहा फरिश्ता हो जाओ,ये भी कम है क्या इंसान हीं हो पाना। 3.धूप में , छाँव में,नहीं थकते कदम गाँव में। ...और पढ़े