प्रार्थनारत बत्तखें Bharatiya Jnanpith द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

प्रार्थनारत बत्तखें

Bharatiya Jnanpith द्वारा हिंदी कविता

किसी भी दौर की समकालीनता एकायामी नहीं होती. उसके पाश्र्व में कई राग-रंग, धुँधले पड़ चुके कई ह र्फ झिलमिलाते रहते हैं। युवा कवि तिथि दानी ढोबले के संग्रह प्रार्थनारत बत्तखेंÓ को पढ़ते हुए हम इसी तरह की ...और पढ़े

अन्य रसप्रद विकल्प