×
    यस !
    by Manisha Kulshreshtha
    • (2)
    • 12

    वह रन वे पर स्टार्टअप पॉइंट पर खड़ा था और मैं ए टी सी (एयर ट्रेफिक कंट्रोल टॉवर) में बैठी थी। आर टी ( रेडियो ट्रांसमीटर) पर उसकी खूबसूरत ...

    बिल्लो की भीष्म प्रतिज्ञा - 2
    by Pradeep Shrivashtava
    • (1)
    • 13

    गाड़ी आगे जैसे-जैसे बढ़ रही थी मन में बसी गांव की तस्वीर साफ होती जा रही थी। मगर सामने जो दिख रहा था वह बहुत कुछ बदला हुआ दिख ...

    आधी नज्म का पूरा गीत - 27
    by Ranju Bhatia
    • (2)
    • 8

    अमृता प्रीतम के इमरोज़ से मेरा मिलना..एक यादगार लम्हा  एक ज़माने से तेरी ज़िंदगी का पेड़ कविता  फूलता फलता और फैलता तुम्हारे साथ मिल कर देखा है और जब तेरी ज़िंदगी के पेड़ ने बीज बनाना ...

    मंज़ूर
    by Saadat Hasan Manto
    • (2)
    • 11

    जब उसे हस्पताल में दाख़िल किया गया तो उस की हलात बहुत ख़राब थी। पहली रात उसे ऑक्सीजन पर रखा गया। जो नर्स ड्यूटी पर थी, उस का ख़्याल ...

    आई लव प्रमोशन
    by Ajitesh Arya Firenib
    • (3)
    • 41

    कपूर साहब एक नामचीन डिटर्जेंट कंपनी के सीईओ है और अगले ही माह रिटायर होने जा रहे है, पूरे इंडिया के स्टाफ में एक ही चर्चा थी कि कंपनी ...

    फ्यू -फाइन्ड इटर्निटी विदिन - क्योंकि लाइफ की ऐसी की तैसी न हो - भाग-2
    by Mangrol Multimedia
    • (1)
    • 29

    ५) नदी कभी अपना पानी नहीं पीती। कोई वृक्ष अपने फल नहीं खाता। बारिश की वजह से जो दाने उगते हैं, वो दूसरों के काम आते हैं। फिर इंसान ...

    वो लडक़ी - पर्दाफाश
    by Ankit Maharshi
    • (29)
    • 178

    Disclaimer:- "इस कहानी के सभी पात्र और घटनाएं काल्पनिक है, इस कहानी का उद्देश आत्माओं और पेरानॉर्मल विज्ञान के संदर्भ में पाठकों में जागरूकता ,, वो भी मनोरंजन के ...

    अनजान रीश्ता - 7
    by Heena katariya
    • (9)
    • 112

    पारुल घर पर आती है तो अब वह लन्च करके शाम के वादे के बारे मे सोचती हैं वह समझ नहीं पाती की इस स्थिति से केसे निकले फ़िर ...

    वो कौन थी-19
    by SABIRKHAN
    • (36)
    • 222

    सूरज ढल चुका था, फिर भी क्षितिज गुलाबी चुनरी ओढ़ कर और भी लुभावनी लग रही थी...!  आबू का खूबसूरत प्राकृतिक नजारा कैमरे में कैद कर लेने को किसी का भी ...