हिंदी आध्यात्मिक कथा किताबें और कहानियां मुफ्त पीडीएफ

    बंद खिड़की
    by Sarvesh Saxena
    • (2)
    • 76

    देखता हूं जब मैं इस बंद खिड़की की ओर, दूर तक कुछ भी दिखाई न देता है, बैठकर चुपचाप जब देखता हूं इसकी ओर, तो हल्का सा कुछ मुझको सुनाई तो देता ...

    धर्म और जात
    by Veerendra Thawre
    • (6)
    • 193

    नमस्कार दोस्तों मैं वीरेंद्र मेहरावैसे तो धर्म  जिसके माध्यम से हम अपने जीवन को सादगी और सुचारू रूप से चलाने का कार्य करते हैं परंतु यही धर्म राष्ट्र की प्रगति ...

    ज्ञान की पिपासा...
    by shekhar kharadi Idariya
    • (8)
    • 269

    युरोप के पुर्वे प्रान्त में एक छोटा सा सुखी दंपती रहता था ।जिनका नाम था मिस पिन्टो और मिसिस हेनरी जो अपनी जिंदगी का निर्वाह खेतीबाडी से करते थे ...

    भैया संगम केहर बा?
    by r k lal
    • (18)
    • 236

    भैया संगम केहर बा?आर0 के0 लालप्रयागराज में लगने वाले कुंभ के संगम की बात आज पूरे विश्व में चर्चा का विषय है। उस दिन दिल्ली से प्रयागराज आते समय ...

    प्रार्थना ईश्वरीय शक्ति की तरंगों का एक स्वरूप
    by Bhupendra Kumar Dave
    • (6)
    • 337

    प्रार्थना ईश्वरीय शक्ति की तरंगों का एक स्वरूप                                                                      ...... भूपेन्द्र कुमार दवे   जब प्रकाश की किरणें अंतः में यकायक फूट पड़ती हैं] तब आत्मशक्ति लयबद्ध ...

    मूर्ति
    by Nirpendra Kumar Sharma
    • (22)
    • 292

    आज फिर खाना नहीं बना फूलो?? हारा थका लालू झोंपड़ी के बाहर ठंडे चूल्हे को गीली आंखों से देखता हुआ बोला। कहाँ से बने कित्ते दिन है गए तुम ...

    ब्रह्मचर्य...
    by Ajay Amitabh Suman
    • (59)
    • 732

    गुरुदेव क्या भोग और स्त्री का उपभोग करते हुए परम् ब्रह्म का साक्षात्कार किया जा सकता है, मुमुक्षु ने पूछा? बिल्कुल किया जा सकता है मुमुक्षु। गुरुजी ने कहा। अनेक ...

    प्रेम के साथ प्रयोग...
    by Ajay Amitabh Suman
    • (18)
    • 218

    लोग उस पर हंस रहे थे। वह  बुजुर्ग चुुपचाप उनके ताने सुन रहा था। बस कंडक्टर उसे बार-बार किराए के पैसे मांग रहा था। वह बुजुर्ग आदमी बार बार बोल रहे ...

    ईश्वर की मर्जी
    by Ajay Amitabh Suman
    • (14)
    • 266

    ऐसा आपने लोगों को अक्सर कहते हुए सुना होगा कि ईश्वर की मर्जी के बिना एक पत्ता भी नहीं हिल सकता। इस सिद्धांत को मानने वाले लोगों के अनुसार, ...