इश्क़ आख़िरी - 21 Harshali द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इश्क़ आख़िरी - 21

"वैसे अगर तुम बुरा ना मानो तो एक बात पूछूं ?", अमृता ने आकाश से पूछा। "हा , बोलो ना क्या पूछना है , डोंट हैसिटेट , मुझे लगा की हम फ्रेंड्स है , फ्रेंड्स से भला कोई परमीशन मांगता है ! उनको तो ऑर्डर दिया करते है", आकाश ने कहा ।




"आज घर पे जब मैं प्यार के बारे में बात कर रही थी तो तुम बहुत डिस्टर्ब लग रहे थे , कुछ हुआ है क्या ? ", अमृता ने आकाश से धीमी आवाज में पूछा । ये सवाल सुनते ही आकाश खड़ा हो जाता है । " क्या हुआ , मैने कुछ गलत पूछ लिया क्या , ठीक है मत बताना , आय एम सॉरी ",अमृता ने उठते हुए कहा । " तुम बैठो यही , में अभी आता हूं ",बोलकर आकाश वहा से चला जाता है । हे भगवान मैने कुछ ज्यादा ही पर्सनल बात पूछ ली शायद , मुझे नही पूछना चाहिए था ये , अब उसको ज्यादा बुरा ना लगा हो बस , अमृता ने अपने आप से ही कहा ।

कुछ देर बाद :

" येलो" , आकाश ने अमृता को कॉफी का एक छोटासा प्याला पकड़ाते हुए कहा । अमृता को कुछ भी समझ नही आ रहा था की आकाश के मन मैं क्या चल रहा है , उसको बुरा लगा या नहीं , अमृता ये सब बाते अपनी दिमाग में सोच ही रही थी तभी आकाश बोल पड़ा ," नहीं तुमने कुछ भी गलत नहीं पूछा , इस मैं गलत की क्या बात है , जो तुमने नोटिस किया वही तो पूछा ना , उम्म्म . . कहा से शुरुवात करू समझ नहीं आ रहा , आकाश ने अमृता की और देखते हुए कहा । " तुम बताओ तुम्हे जैसा बताना है , समझने के लिए में हूं ना !! ", अमृता ने बड़ी प्यार से आकाश से कहा । आकाश ने एक स्माइल अमृता को पास की और कहना शुरू किया ।

" मैं जब कॉलेज में था , तब मेरी एक गर्लफ्रेंड थी , आरोही नाम था उसका , तभी मेरे फ्रेंड ने मुझे बताया था की वो मुझे लाइक करती है , मैंने पहले उसको साफ साफ मना कर दिया था , फिर आरोही ने कहा कि जब तक तुम हां नही बोलते मैं तुम्हारा पीछा नहीं छोडूंगी , मैने उसको समझाया भी था बहुत बार लेकिन वो एक थी जो समझ ही नही रही थी , फिर भी हम दोनों के बीच एक अच्छी बॉन्डिंग थी , अच्छी फ्रेंडशिप थी हमारे बीच , कुछ दिन ये सब ऐसेही चलता रहा , कुछ दिन बाद मेरे फ्रेंड्स मुझे बोलने लगे की, क्या तू भी सिंगल ही घूम रहा है , आरोही तेरे पीछे इतनी पागल है तो तू भी उसे एक्सेप्ट कर ले , धीरे धीरे मुझे भी आरोही की आदत लग गई , पहले पहले मैं उसको पसंद नहीं करता था , लेकिन फिर उसको पसंद करने लगा, आय मीन उसका नेचर , बिहेवियर सब बहुत अच्छा था । फिर मैने आरोही को हां बोल दिया , कुछ दिन बहुत अच्छे से गए , फिर एक दिन मैंने देखा की . . . वो किसी लड़के साथ कार में इंटीमेट . . . बोलते बोलते आकाश रुक गया । " फिर ? फिर आगे क्या हुआ ?", अमृता ने पूछा । "मुझे उस वक्त पता नहीं चल रहा था की में कैसे रिएक्ट करू ! उस रात मैं रोया भी था , वो सब यादें मेरे दिल और दिमाग में घूम रही थी , फिर दूसरे दिन मैने ये सारी बातें आरोही को बताई और उससे जवाब मांगा , तो उसने कहा की , उस लड़के के पास तुमसे ज्यादा पैसा है , वो मुझे ज्यादा खुश रखेगा मेरी हर ख्वाहिश पूरी करेगा ये बोलकर वो वहा से चली गई । लेकिन मेरे दिमाग से ये सब जाने का नाम ही नहीं ले रहा था , तब से मुझे प्यार क्या है वो समझ ही नही आता , कभी कभी ऐसा लगता है की, वो जो आरोही के लिए मेरे दिल में था वो प्यार नही था , बस एक ना छूटने वाली आदत थी , और उसी वजह से मुझे तकलीफ हुई जब वो मुझे छोड़कर गई , मुझे उसकी इतनी आदत हो चुकी थी ना जैसे एक ड्रंकर को दारू की होती है , और जब आज इतने दिनो बाद प्यार के बारे में किसी से सुना ना , तो मुझे वो सब मेमोरीज याद आई , आकाश ने कहा । अमृता बस एक टक आकाश को सिर्फ देखे ही जा रही थी । " क्या हुआ , कुछ बोलो ",आकाश ने अमृता से कहा । " हम्म्म , क्या बोलूं, समझ नही आ रहा मुझे ", अमृता ने आकाश पर से नजरे हटाते हुए कहा ।




" हां , लेकिन जब तुम से सुना ना की प्यार असल में क्या और कैसा होता है , तब मुझे विश्वास हुआ की आरोही के साथ जो था वो प्यार नहीं मेरी एक आदत थी । अक्सर ऐसा होता है ना की, हमे कन्फ्यूजन होता है , हमे सच में प्यार हुआ है या अट्रैक्शन या फिर किसी शक्स की आदत ! !",आकाश ने अमृता से कहा । "हां , और इस के वजह से तुम्हे ये लग रहा था की हर लड़की को अमीर लड़का चाहिए होता है ? राइट ? ",अमृता ने आकाश की और देखते हुए कहा। " हां इसी वजह से लगता था , लेकिन अब नही लगता ", आकाश ने अमृता की आंखो मैं देखते हुए कहा । "डोंट वरी, तुम्हारी ज़िंदगी में भी एक ऐसी लड़की आएगी जो तुम्हे सिखाएगी की प्यार क्या होता है और ये एहसास भी दिलाएगी की दुनिया में बस प्यार ही एक ऐसी चीज है जो सच्ची है ", अमृता ने कहा । अमृता के इस बात पर आकाश ने एक स्माइल दे दी और कहा होप सो वो लड़की जल्दी ही आए मेरे लाइफ मैं । "जरूर आएगी , जब सही समय आएगा ना तब बहुत सी चीज आसान हो जाती है , अब चलो बहुत देर हो चुकी है ", अमृता ने कहा । " एक काम करते है , बाहर ही कुछ खाते है ना प्लीज , वैसे अब तो टाइम भी हो चुका है , और डिनर करने के बाद ना तुम्हे नींद भी आयेगी तो कार में सो जाना थोड़ी देर , घर जाने में थोड़ा टाइम तो लगेगा ही ", आकाश ने अमृता से कहा । अमृता ने भी झट से हां कर दी ।



रेट व् टिपण्णी करें

Rupa Soni

Rupa Soni 2 महीना पहले

ashit mehta

ashit mehta 2 महीना पहले

Preeti G

Preeti G 2 महीना पहले

Rajan Riyat

Rajan Riyat 2 महीना पहले