हिंदी मुफ्त में पढ़े और PDF डाउनलोड करें

सोनोरल
by Saadat Hasan Manto
  • (0)
  • 1

बुशरा ने जब तीसरी मर्तबा ख़्वाब-आवर दवा सोनूरल की तीन टिकियां खा कर ख़ुदकुशी की कोशिश की तो मैं सोचने लगा कि आख़िर ये सिलसिला क्या है। अगर मरना ...

सैलाब - 9
by Lata Tejeswar renuka
  • (1)
  • 20

कुछ साल बीत गये और पावनी की शादी रामू से हो गयी। पावनी एक संयुक्त परिवार की बहू बन गयी। जब तक नौकरी करती थी तब तक शतायु को ...

पल जो यूँ गुज़रे - 13
by Lajpat Rai Garg
  • (2)
  • 20

जब निर्मल सिरसा पहुँचा तो रात हो गयी थी। सर्दियों की रात। कृष्ण पक्ष की द्वादश और कोहरे का आतंक। रिक्शा पर आते हुए तीव्र शीत लहर उसकी हडि्‌डयों ...

गुमशुदा की तलाश - 13
by Ashish Kumar Trivedi
  • (5)
  • 26

                 गुमशुदा की तलाश                          (13)सरवर खान बिपिन की बात करते ...

दस दरवाज़े - 31 - लास्ट प्रकरण
by Subhash Neerav
  • (1)
  • 22

हम पूरी धूमधाम से बारात लेकर छोटे-से शहर लूटन में ज्ञान सिंह के घर प्रदीप को ब्याहने पहुँचते हैं। प्रकाश के सभी रिश्तेदार आते हैं। बारात में हमारे भी ...

तुम and Time Machine
by Mit Gupta
  • (0)
  • 18

"Hello" "who is this..?""Sanju.""..........""can you please call me back ""ok करता हूँ" आज 4 साल के बाद अचानक उसका कॉल आया था. पर मैं उसे भुला नहीं था और शायद वो ...

आमची मुम्बई - 39
by Santosh Srivastav
  • (0)
  • 10

चर्चगेट से विरार तक जाने वाली लोकल ट्रेन मुम्बई की सबसे रोमाँचक यात्रा कराती है इस पर पीक आवर्स में चढ़ना तो दूर दरवाज़े पर लटकने भी ...

फेसबुक और तीन प्रेमी युगल - 1
by Arpan Kumar
  • (1)
  • 23

“इधर फेसबुक पर बने रहना एक फैशन हो गया है। मैं भी उस फैशन का शिकार हूँ। बच्चों और बीवी के साथ समय न बिताकर इस वर्चुअल कम्युनिटी सेंटर ...

दिल मेरा
by अmit Singh
  • (0)
  • 33

                      देखा तुमको जब प्रथम बार,                      चांदनी में चमकता रूप ...

अनजान रीश्ता - 20
by Heena katariya
  • (9)
  • 119

सेम और पारुल ब्यूटी पार्लर में पहुंचते हैं तभी सेम वर्कर से कहता है की उनकी मेम को बुलाये और सेम और पारुल वहां वैट कर रहे थे तभी ...

अंशकथा - 2
by Kavi Ankit Dwivedi Anal
  • (0)
  • 33

कथा 01- पुराना बरगद का पेड़अरे सुनो ! सुनो तो !आखिर मैं भी इसी समाज का सदस्य हूँ । फिर सबने मुझे यूँ अकेला क्यों छोड़ दिया । क्या ...

सीमित प्रेम
by Ramanuj Dariya
  • (2)
  • 66

एक लड़का है जिसे लोग आशु के नाम से जानते हैं ,नाम से कम उसके काम से लोग ज्यादा जानते है।एक नाम आशी जिसकी अदाओं से लोग जानते है ...

पर्व के रंग
by Dr. Vandana Gupta
  • (2)
  • 140

     दीवाली की रात.. सूरज और चाँद मानो एक साथ सम्पूर्ण निहारिका लेकर धरती पर जगमगाने चले आए हों. मन के भीतर भी और बाहर भी उत्सव का ...

लाइफ़ @ ट्विस्ट एन्ड टर्न. कॉम - 10
by Neelam Kulshreshtha
  • (1)
  • 51

यामिनी ने प्रिया को फ़ोन लगाया। उसकी` हैलो ` सुनकर बोली, ``तू ज़िंदा है या मर गई ?मैंने एक सप्ताह पहले फ़ोन किया था तो स्विच ऑफ़ आ रहा ...

टुकड़ा-टुकड़ा ज़िन्दगी - 2
by प्रियंका गुप्ता
  • (4)
  • 31

फ़ैज़ान मियाँ एकदम खामोश हो गए। आलिया आखिर कैसा वादा चाह रही थी...बिन जाने कैसे खुदा को हाज़िर-नाज़िर जान कर वादा कर लें...? आलिया उनकी ख़ामोशी की आवाज़ भी ...

डाक्टर मित्र (फेसबुक)
by महेश रौतेला
  • (4)
  • 66

डाक्टर मित्र(फेसबुक) :   फेसबुक पर मुझे एक मित्र अनुरोध मिला,अटलांटा, संयुक्त राज्य अमेरिका से। नाम है  सोरेल। मैंने अनुरोध स्वीकार करने का मन बनाया। इससे पहले मैं सरला देवी ...

विश्वास
by राजनारायण बोहरे
  • (2)
  • 55

कहानी-                                   विश्वास                                                                                                                           राजनारायण बोहरे बाबू हरकचंद का ज़िंदगी भर का विश्वास एकाएक ढह गया।             वे जब

मैडम का मन जीत लिया
by Monty Khandelwal
  • (4)
  • 49

3 दिन पहले की ही बात है | मुझे  मारवाड़ जाना है| जिसकी टिकट निकलने के लिए में  रेलवे स्टेशन गया था | जहाँ पे  रिजर्वेशन टिकट मिलती है ...

चलोगे क्या फरीदाबाद?
by Ajay Amitabh Suman
  • (4)
  • 49

(१)   चलोगे क्या फरीदाबाद?   रिक्शेवाले से लाला पूछा, चलोगे क्या फरीदाबाद ?उसने कहा झट से उठकर, हाँ तैयार हूँ भाई साब. हाँ तैयार हूँ भाई साब कि,लाए क्या अपने साथ हैं?तोंद उठाकर लाला बोला,हम  तो  खाली हाथ हैं . हम  तो खाली हाथ हैं कि,साथ मेरे घरवाली है .और

एक अच्छा-भला दिन
by Pritpal Kaur
  • (4)
  • 43

अशोका रोड पर ठीक बीजेपी मुख्यालय के सामने से वह गुज़र रही थी. उसको लग ही रहा था कि ट्रैफिक सिग्नल की लाइट हरी से पीली में बदलने वाली ...

मन्नू की वह एक रात - 24
by Pradeep Shrivastava
  • (16)
  • 218

मेरी यह दलील सुन कर चीनू एक बार फिर भड़क गया। बोला, '‘शादी-शादी-शादी, दिमाग खराब हो गया है तुम्हारा। तुम असल में मेरी शादी नहीं बल्कि अब मुझ से भी ...

आखर चौरासी - 6
by Kamal
  • (1)
  • 13

बड़े भाई सतनाम की शादी के सिलसिले में गुरनाम अपने कॉलेज और हॉस्टल से छुट्टी लेकर पिछले पखवारे भर से घर आया हुआ था। पंजाबी शादी वाले घर का ...

कमसिन - 27
by Seema Saxena
  • (16)
  • 189

सुबह हो गयी थी ! आज कल्पना को उठने की इच्छा नहीं हो रही थी ! वह ऐसे ही लेटी रहना चाहती थी लेकिन माँ की पूजा और उनकी ...

लाइफ़ @ ट्विस्ट एन्ड टर्न. कॉम - 9
by Neelam Kulshreshtha
  • (2)
  • 52

` दुर्लभ पति --दुर्लभ पति ---दुर्लभ पति `---------- दामिनी के बंगले के अपने कमरे में आकर भी यामिनी के कानों में ताली बजाकर चीयर अप करती बहिनों व भांजी ...

खट्टी मीठी यादों का मेला - 14
by Rashmi Ravija
  • (8)
  • 122

(रात में बेटी के फोन की आवाज़ से जग कर वे, अपना पुराना जीवन याद करने लगती हैं. उनकी चार बेटियों और दो बेटों से घर गुलज़ार रहता. पति ...

फिर भी शेष - 8
by Raj Kamal
  • (3)
  • 53

सुख—दुःख के इसी महाचक्र में, आनंद का एक प्रसंग उससे छिटक गया। वह भूल गई कि काजल का पत्र आया था। उस दिन आदित्य ने नीचे बुलाकर उसे दिया ...

आमची मुम्बई - 38
by Santosh Srivastav
  • (0)
  • 23

जनवरी लगते ही मुम्बई का आकाश और खाड़ियों के किनारे खूबसूरत गुलाबीपंखों वाले समुद्री पक्षी फ्लेमिंगो से भर जाता है मुम्बई में खारे समुद्री पानी की कई ...

इंद्रधनुष सतरंगा - 10
by Mohd Arshad Khan
  • (1)
  • 28

‘‘साहब, मेरा नाम बानी है। सोलह बरस की उम्र से यह काम कर रहा हूँ।’’ फेरीवाला कर्तार जी को बता रहा था। वह अधलेटे उसकी बात सुन रहे थे। ...

गुमशुदा की तलाश - 12
by Ashish Kumar Trivedi
  • (6)
  • 93

                  गुमशुदा की तलाश                          (12)सरवर खान के कमरे में बैठा ...

चिंटू - 8
by V Dhruva
  • (13)
  • 133

डीएसपी वर्मा सर का घर बांद्रा में था। वह एक बारह मंजिला टॉवर में दसवीं मंजिल पे रहते थे। वैसे पार्टी टॉवर के सेक्रेटरी की परमीशन लेकर टैरेस पर ...