हिंदी मनोविज्ञान कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

अवसान की बेला में - भाग ८ (अंतिम भाग )
द्वारा Rajesh Maheshwari

                                 63.  श्रेष्ठ कौन ? “ अरे राकेश ! यह देखो, ये फूल कितने ...

अवसान की बेला में - भाग ७
द्वारा Rajesh Maheshwari

                      56.   मानवीयता श्रेष्ठ धर्म जबलपुर विकास प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष और भारत सरकार में अस्सिटेंट सालिसिटर जनरल के ...

अवसान की बेला में - भाग ६
द्वारा Rajesh Maheshwari

                          46.  अंतिम दान सेठ रामसजीवन नगर के प्रमुख व्यवसायी थे जो अपने पुत्र एवं पत्नी के ...

अवसान की बेला में - भाग ५
द्वारा Rajesh Maheshwari

            36.  उत्तराधिकारी मुंबई में एक प्रसिद्ध उद्योगपति जो कि कई कारखानों के मालिक थे, अपने उत्तराधिकारी का चयन करना चाहते थे। उनकी तीन ...

अवसान की बेला में - भाग ४
द्वारा Rajesh Maheshwari

                        २६.   चेहरे पर चेहरा रामसिंह नाम का एक व्यक्ति था, वह पेशे से डाक्टर था। वह बहुत ...

अवसान की बेला में - भाग ३
द्वारा Rajesh Maheshwari

                        १६.   सच्चा प्रायश्चित नर्मदा नदी के किनारे पर बसे रामपुर नाम के गाँव में रामदास नामक एक ...

अवसान की बेला में - भाग २
द्वारा Rajesh Maheshwari

                               6.  हार-जीत             सुमन दसवीं कक्षा में एक अंग्रेजी माध्यम की शाला में अध्ययन करती ...

अवसान की बेला में - भाग १
द्वारा Rajesh Maheshwari

अवसान की बेला में लेखक एवं संग्रहक:-  राजेष माहेष्वरी                                श्रद्धांजली विचारों के संकलन, संपादन ...

स्वतंत्रनिर्भरता का महत्व
द्वारा Rudra Sanjay Sharma

"स्वतंत्रनिर्भरता का महत्व"आत्मा को परमात्मा से मिलन कर, परम् यानी सर्वश्रेष्ठ आत्मा बनने के लियें स्वयं के ही तंत्र पर निर्भर होकर आत्म निर्भर स्वतंत्र बनना अनिवार्य हैं।वह आत्मा ...

मुँह को बंद रखना, मौन अब जरुरी है
द्वारा Kamal Bhansali

शीर्षक: मुँह को बंद रखना, मौन अब जरुरी है जीवन के क्षेत्र में मौन” और “खामोशी” दो शब्द ऐसे है, जिनका मतलब प्रायः एक जैसा होते हुए भी हटकर ...

मित्रता (दोस्ती) , दुश्मनी और झगड़ा
द्वारा Rajesh Sheth

मित्रता (दोस्ती)१.  दैनिक जीवन में, व्यवहार करते समय, हम बहुत से व्यक्तियों के संपर्क में आते हैं। यह संपर्क शायद हर रोज होता है या कभी कभी और यह ...

उपलब्धि
द्वारा Dr Mrs Lalit Kishori Sharma

मनोविज्ञान के अनुसार मानव का जीवन  मन द्वारा ही संचालित होता है । मन की शक्ति द्वारा ही हमारी समस्त इंद्रियां सक्रिय होती हैं इसीलिए मन को इंद्रियों का ...

COMMITMENT - Self Development Topics
द्वारा Rajesh Sheth

COMMITMENTSelf development topics based on Humanist themes of peace and non violence of the community for human developmentIntroductionEveryone knows about the commitment of Mahatma Gandhi towards non-violence and search ...

नाक कट जाएगी
द्वारा Mayank Saxena

हम भारतीयों की नाक हर क्षण कट कर पुनरुदभव हो जाती है ठीक वैसे ही जैसे किसी छिपकली की पूंछ। आखिर कटे भी क्यों न, विश्व में हमारा मान ...

देखो...
द्वारा Pinalbaraiya

इस दुनिया को देखो गौर से देखो.. बस देखते ही रहो...ओर कुछ करने की जरूरत ही नहीं है..तुम देखोगे तो जानोगे ओर जानोगे तो मानोगे ओर मानोगे तो तुम ...

आर्ट ऑफ वर्किंग
द्वारा Chandrakant Pawar

आर्ट ऑफ वर्किंग श्रम शक्ति को बनाने की युक्ति प्रदान करता है ।जो मनुष्य को सामाजिक गरीमा का सम्मान करने के लिए होती है। स्वयं के दर्शन का प्रसाद ...

जिंदगी के पहलू - 5 - सही मानसिकता का निर्माण
द्वारा Kamal Bhansali

आज जीवन गहन संकट काल से गुजर रहा है, मानव विक्षोभ के अंतर्गत बहुत प्रकार के तनाव का सामना कर रहा है। यह तो पूरा विश्व जहाँ एक तरफ ...

खुदगर्ज नहीं खुद्दार जरुर बनिये
द्वारा Kamal Bhansali

आधुनिक युग जिसमें, हम अपनी जिंदगी का सफर कर रहे वो समय, कभी, हमें इस अहसास की अनुभूति कहीं न कहीं करा ही देता है कि कहीं हमारा, इस ...

जिंदगी के पहलू - 4 - खुश रहना भी कला है
द्वारा Kamal Bhansali

शीर्षक: खुश रहना भी कला है। हम अपनी चर्चा हमारे देश के एक विद्वान सी. राजगोपालाचारी के इस कथन के साथ शुरु करते है " Without wisdom in the ...

जिंदगी के पहलू - 3 - सत्य, मजबूत क्षमता का निर्माता
द्वारा Kamal Bhansali

जीवन की खासियत, हमारी आंतरिक क्षमता होती है।एक मजबूत व्यक्तित्व के इंसान में ये क्षमता सिर्फ एक तत्व से आती है, और वो है सत्य के प्रति पूर्ण आस्था। ...

जिंदगी के पहलू - 2 - प्रकृति, प्यार और इंसान
द्वारा Kamal Bhansali

It seems to me that the natural world is the greatest source of excitement; the greatest source of visual beauty; the greatest source of intellectual interest. It is the ...

प्रेम और वासना - भाग 4
द्वारा Kamal Bhansali

दोस्तों, हमने प्रेम के रिश्तों के सन्दर्भ में कुछ पारिवारिक-रिश्तों की चर्चा की, परन्तु कुछ रिश्तें जो आज के जीवन में काफी उभर कर, पारिवारिक और सामाजिक रिश्तों पर ...

आखिर क्यों ?
द्वारा Neelima Sharrma Nivia

ज़िंदगी में कुछ तारीखें ऐसी होती हैं जिन्हें याद करके दिल उदास ओर उद्वेलित हो जाता है । आज यानी 14 जून को टीवी और फिल्मों के मशहूर अभिनेता ...

जिंदगी के पहलू - 1
द्वारा Kamal Bhansali

इंसानी जिंदगी धरती पर जब अपना पहला कदम, माँ की बाहों से उतर कर रखती है, तो उसकी पहली लड़खड़ाहट उसे ये एहसास करा देती कि आसान नहीं है, ...

देह अगन की लपट
द्वारा राजनारायण बोहरे

देह की अगनलेखक शिव शम्भू बाबू ने अपनी चालीस साल पुरानी डायरी में से जो कथा मुझे पढ़ाई है वह मैं सीधा ही पाठकों को पढ़ाता हूँ।होली पर सब ...

कपूत बेटा
द्वारा राज बोहरे

दफ्तर में सबसे बड़ी चिकचिक हुई थी इसलिए सर बिना रहा था । वह दफ्तर से बाहर निकल कर सड़क पर यूं ही खड़ा हो गया था। रिस्ट वॉच ...

छींक
द्वारा Lalit Rathod

छींक का आना दिन की सुखद घटना लगती है। हमेशा से छींक आने के बाद भीतर राहत महसूस करता हूं। तब इच्छा हाेती है कि छींक फिर आए। जादूगर ...

सपना
द्वारा praveen singh

सपना,हर इंसान एक छोटी उम्र से ही कोई ना कोई सपना देखकर ही बड़ा होता है, किसी को क्रिकेटर, किसी को एक्टर, सिंगर, डांसर, और भी कई चीजें होती ...

वो लड़का
द्वारा Yogesh Kanava

    वो लड़का आज फिर से दीपेश बाॅस की डाँट खाकर आया। वो बिल्कुल उखड़ा हुआ था। रोज-रोज की डाँट खाने से तो अच्छा है मैं ही कुछ ...

छात्र-छात्राओं द्वारा आत्मघाती कदम
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"

  आलेख   छात्र-छात्राओं द्वारा आत्मघाती कदम उठाने के कारण तथा रोकने (समाधान) के उपाय।                                                                    वेदराम प्रजापति ‘मनमस्त’       यह विषय, वर्तमान परिवेश का ...

हार-जीत को प्रतिष्ठा का तमगा ना पहनाएं
द्वारा मंजरी शर्मा

आज महक के स्कूल में फैंसी ड्रेस कम्पटीशन था, बच्चे से लेकर हर अभिभावक ने खूब मेहनत की थी. कोई सब्ज़ी बना था तो कोई जानवर. नर्सरी में पड़ने ...