×

पत्र ओनलाईन किताबें पढ़ें अथवा हमारी ऐप डाऊनलोड करें

    कमीने दोस्त
    by ANKIT J NAKARANI
    • (3)
    • 23

    सभी लोग को सिर्फ दो टोपिक मिल गये है एक दोस्त और दूसरा प्यार इसके आलावा कोई कुछ लिखता ही नहीं साला में भी कुछ ऐसा ही लिख रहा ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 21
    by Divya Prakash Dubey
    • (2)
    • 13

    सेवा में, कुमारी डिम्पल, सविनय निवेदन है कि तुम हमें बहुत प्यारी लगती हो। हम ये चिट्ठी अपने ख़ून से लिखकर देना चाहते थे लेकिन क्या करें हम सोचे कहीं तुम ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 20
    by Divya Prakash Dubey
    • (2)
    • 23

    तुम्हें dear लिखूँ या dearest, ये सोचते हुए लेटर पैड के चार कागज़ और रात के 2 घंटे शहीद हो चुके हैं। तुम्हारी पिछली चिट्ठी का जवाब अभी ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 19
    by Divya Prakash Dubey
    • (2)
    • 15

    संडे वाली चिट्ठी‬ ------------------ पिछले हफ्ते पहली किताब( टर्म्स एंड कंडिशन्स अप्लाई) आए हुए 6 साल पूरे हुए। 6 साल पहले ये चिट्ठी सही में लिख कर अमिताभ बच्च्न को पोस्ट ...

    सभी धर्म के ईश्वर को पत्र
    by Rishi Agarwal
    • (2)
    • 56

    परम् आदरणीय प्रभु,आप तो जानते ही है अब इस युग में आपका सर्वस्व धीरे-धीरे नष्ट होता जा रहा है और हो भी क्यों नहीं, जब इंसान स्वयं को खुदा ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 18
    by Divya Prakash Dubey
    • (1)
    • 11

    डीयर बीवी, मैं इंटरनेट पर हर हफ्ते में इतने ओपेन लेटर पढ़ता हूँ और ये देखकर बड़ा हैरान होता हूँ कि कभी किसी पति ने अपनी बीवी को कोई ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 17
    by Divya Prakash Dubey
    • (4)
    • 26

    संडे वाली चिट्ठी‬ ------------------ Dear पापा जी, कुछ दिन पहले आपकी चिट्ठी मिली थी। आपकी चिट्ठी मैं केवल एक बार पढ़ पाया। एक बार के बाद कई बार मन किया कि ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 16
    by Divya Prakash Dubey
    • (1)
    • 24

    डियर J, मुझे ये बिलकुल सही से पता है कि मैं अपने हर रिश्ते से चाहता क्या हूँ। मुझे क्या हम सभी को शायद ये बात हमेशा से सही से ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 15
    by Divya Prakash Dubey
    • (3)
    • 22

    बाक़ी सब में कितना कुछ समा जाता है न, मौसम, तबीयत, नुक्कड़, शहर, घरवाले, पति, ससुराल सबकुछ । उम्मीद तो यही है कि शादी के बाद बदल गयी ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 14
    by Divya Prakash Dubey
    • (3)
    • 42

    सुनो यार पागल आदमी,  तुमसे ही बात कर रहा हूँ, तुम जो सड़क के किनारे फटे कपड़े, बढ़ी हुई दाढ़ी, उलझे बालों के साथ हर मौसम में पड़े रहते हो। ज़ाहिर है ...

    शराबी नहीं शराब खराब
    by manohar chamoli manu
    • (4)
    • 66

    शराबी नहीं शराब खराब-मनोहर चमोली ‘मनु’मेरे बेवड़े दोस्त ! कैसे हो? यह पूछने का मन भी कहाँ है? भारी मन से तुम्हें यह पत्र लिख रहा हूँ। कैसे लिखूँ ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 13
    by Divya Prakash Dubey
    • (1)
    • 16

    चिट्ठियाँ लिखने का एक फ़ायदा ये है कि आपको लौट कर बहुत सी चिट्ठियाँ वापिस मिल जाती हैं। इधर एक चिट्ठी ऐसी आई जिसमें किसी ने मुझसे पूछा कि ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 12
    by Divya Prakash Dubey
    • (3)
    • 36

    संडे वाली चिट्ठी‬ ------------------ डीयर आदित्य धीमन, और उन तमाम लोगों के नाम जो सोशल नेटवर्क पर लड़कियों ‘पब्लिकली’ को माँ बहन की गाली देते हैं।

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 11
    by Divya Prakash Dubey
    • (3)
    • 31

    डीयर ए जी, आपको अभी चिट्ठी से पहले कभी ए.जी. नहीं बोले लेकिन मम्मी पापा को जब ए.जी. बोलती थीं तो बड़ा ही क्यूट लगता था। आपने कभी सोचा है ...

    वीकेंड चिट्ठियाँ - 10
    by Divya Prakash Dubey
    • (4)
    • 30

    Dear फलाने अंकल-ढिमकाना आंटी, जब मैं class 10th का बोर्ड एग्जाम देने वाला था तब आप दोनों घर आते और मेरे घर वालों से कहते देखिये अगर बच्चे के 90 ...