'नदी के पार नदी' (2002), 'मैं सड़क हूँ' (2011) एवं ‘पोले झुनझुने’ (2018) काव्य-संग्रह प्रकाशित एवं चर्चित। उपन्यास ‘पच्चीस वर्ग गज़’ (2017) प्रकाशित एवं चर्चित। कविता, कहानी, आलोचना आदि विधाओं में सक्रिय। कविताओं/कहानियों का आकाशवाणी/दूरदर्शन से प्रसारण एवं विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशन।