आध्यात्मिक कथा कहानियाँ पढ़े और PDF में डाउनलोड करे

Matrubharti is the unique free online library if you are finding Spiritual Stories, because it brings beautiful stories and it keeps putting latest stories by the authors across the world. Make this page as favorite in your browser to get the updated stories for yourself. If you want us to remind you about touching new story in this category, please register and login now.


Categories
Featured Books

श्री नामदेव जी By Renu

जल-थल और अग्नि आदि में सर्वत्र अपने इष्ट का ही दर्शन करूंगा — यह प्रतिज्ञा श्री नामदेव जी की उसी प्रकार निभी, जैसे कि त्रेतायुग में नरसिंह भगवान् के दास श्री प्रह्लाद जी की निभी थी...

Read Free

मेरे प्रभु श्री राम आए हैं ...... By Purnima Kaushik

22 जनवरी का अत्यंत खुशियों से भरा दिन था, जिसका इंतजार अनेक वर्षों से भारत का प्रत्येक नागरिक कर रहा था। इस शुभ अवसर का इंतजार न जाने कितने वर्षों से सभी राम भक्त कर रहे थे। हमारे...

Read Free

ईश्वर या धन? By Diyac

ईश्वर या धन? आप क्या चाहते हैं?एक बार एक नगर के राजा के यहाँ पुत्र पैदा हुआ। इस खुशी में राजा ने पूरे नगर में घोषणा करवा दी कि कल पूरी जनता के लिए राजदरबार खोल दिया जायेगा। जो व्यक...

Read Free

ईश्वर तू ही अन्नदाता है By Diyac

ईश्वर तू ही अन्नदाता हैकिसी राज्य में एक प्रतापी राज्य हुआ करता था। वो राजा रोज सुबह उठकर पूजा पाठ करता और गरीबों को दान देता। अपने इस उदार व्यवहार और दया की भावना की वजह से राजा प...

Read Free

एक बोरी गेहूँ By Diyac

एक बोरी गेहूँचंपक बाल कहानीप्रतापनगर एक बहुत ही संपन्न राज्य था। वहाँ के राजा बहुत ही प्रतापी थे और प्रजा का पूरा ख्याल रखते थे। राजा ने पूरे जीवन प्रजा की मन से सेवा की थी लेकिन अ...

Read Free

श्रीमद्भगवद्गीता मेरी समझ में - अध्याय 8 By Ashish Kumar Trivedi

अध्याय 8 अक्षर ब्रह्म योगअध्याय सात में ईश्वर के व्यापक रूप का वर्णन किया गया था। अब अर्जुन के मन में कई सारे प्रश्न उठ रहे थे। उसने श्रीकृष्ण के समक्ष अपने प्रश्न रख दिए। अर्जुन न...

Read Free

एक फकीर हुआ, अगस्तीन By SR Daily

एक फकीर हुआ, अगस्तीन।एक फकीर हुआ, अगस्तीन। कोई तीस वर्षों से परमात्मा की खोज में था।भूखा और प्यासा, रोता और चिल्लाता और प्रार्थना करता। एक क्षण का विश्राम न लेता। जीवन का कोई भरोसा...

Read Free

बजरंग बाण से अद्भुत लाभ By Captain Dharnidhar

गायत्री मंत्र को दुनिया का सबसे प्रभावी मंत्र माना जाता है लेकिन गायत्री मंत्र की तरह और भी प्रभावशाली मंत्र एवं पाठ है । जैसे - हनुमान चालीसा, बजरंग बाण। हनुमान जी एक ऐसे देवता है...

Read Free

चंद्रिका - 1 By Sonali Rawat

नीले पहाड़ों के पीछे एक राज्य था जो सुख और समृद्धि से भरा हुआ था जिसके लोग एक दूसरे की मदद करते थे और सभी के बीच बहुत बर्फ थी जिसके कारण सभी लोग राजा और उसके परिवार का बहुत सम्मान...

Read Free

विक्रम और बेताल - 6 - लड़की किसको मिलनी चाहिए? By Your Dreams

लड़की किसको मिलनी चाहिए? उज्जैन में महाबल नाम का एक राजा रहता था। उसके हरिदास नाम का एक दूत था जिसके महादेवी नाम की बड़ी सुन्दर कन्या थी। जब वह विवाह योग्य हुई तो हरिदास को बहुत चि...

Read Free

लोक कथा - 2 By Sonali Rawat

समझदार किसान और जादुई बीजएक समय की बात है, हरे-भरे खेतों के बीच बसे एक शांतिपूर्ण गाँव में, राम नाम का एक बुद्धिमान किसान रहता था। राम को उनकी कड़ी मेहनत के लिए जाना जाता था, लेकिन...

Read Free

कुछ अंजान जिंदगी की कहानियां - 3 By Your Dreams

द्रुपद का पुत्रेष्टि यज्ञ प्राचीन भारत में पुत्रेष्टि यज्ञ के द्वारा तेजस्वी पुत्र प्राप्त करने की प्रथा थी| जब किसी बहुत बड़े नृपति को संतान का अभाव दुख देता था, तो वह ऋषियों और...

Read Free

शिवलिंग By Jay Dave

शिवलिंग पर चढाये जल को लाँघा नही जाता और शिवलिंग की परिक्रमा आधी की जाती है. शिवलिंग पर अर्पित नैवेद्य भी नहीं खाया जाता उसे गऊ वंश को खिला दिया जाता है क्योंकि उनमें ही इसकी शक्ति...

Read Free

गायत्री मंत्र से बदलते हैं विचार By Captain Dharnidhar

गायत्री मंत्र को महामंत्र कहा जाता है ,क्योंकि गायत्री मंत्र अपने आप में ही महामंत्र है , गायत्री मंत्र को मंत्रो का मंत्र कहा जाता है ,गायत्री मंत्र के हर अक्षर में बीज मंत्र है अ...

Read Free

सब कुछ तुम्हारे हाथ में है! By Your Dreams

सब कुछ तुम्हारे हाथ में है!एक आदमी रेगिस्तान से गुजरते वक़्त बुदबुदा रहा था, “कितनी बेकार जगह है ये, बिलकुल भी हरियाली नहीं है…और हो भी कैसे सकती है यहाँ तो पानी का नामो-निशान भी नह...

Read Free

एक योगी की आत्मकथा - 40 By Ira

मेरा भारत लौटनाअत्यंत आनन्द के साथ मैं भारत की पवित्र हवा में फिर एक बार श्वास ले रहा था । हमारा जहाज “राजपूताना” २२ अगस्त १९३५ को मुंबई के विशाल बन्दरगाह में आकर खड़ा हो गया। जहाज...

Read Free

राम नाम की ओषधि काटत सभी क्लेश By prabha pareek

         राम नाम की औषघि काटे सभी कलेश गौस्वामी तुलसी दास जी कहते हैं कि मनुष्य का तन शरीर खेत है ओर मन ,वचन, कर्म किसान है। जैसे किसान बीज बोता है वैसे ही हम मन, वचन और कर्म से बी...

Read Free

गायत्री जप कभी निष्फल नही जाता By Captain Dharnidhar

हिंदू धर्म मे गायत्री मंत्र बहुत शक्तिशाली मंत्र है इसकी मदद से हम अपनी जिंदगी से जुड़ी हर समस्या का हल कर सकते हैं ।गायत्री मंत्र का जाप करने से मनोकामनाओं की पूर्ति होती है. सांस...

Read Free

हनुमान जी की उड़ने की गति  By Binal Jay Thumbar

बचपन में जब हमारे बड़े हमें रामायण की कहानियां सुनाया करते थे तब हमें लक्ष्मण जी के बेहोश होने पर हनुमान जी का संजीवनी बूटी लेने जाना व जाने का किस्सा सुनाया जाता था जिसमे संजीवनी...

Read Free

भक्त राजा श्रीकुलशेखर जी By Renu

कोल्लिनगर (केरल) के राजा दृढव्रत बड़े धर्मात्मा थे, किंतु उनके कोई सन्तान न थी। उन्होंने पुत्र के लिये तप किया और भगवान् नारायण की कृपा से द्वादशी के दिन पुनर्वसु नक्षत्रमें उनके घ...

Read Free

सेवा और सहिष्णुता के उपासक संत तुकाराम - 11 By Charu Mittal

शिवाजी महाराज को उपदेशतुकाराम महाराज कोरे भजनानंदी नहीं थे, वरन् नैतिक, सामाजिक कर्तव्यों का भी उनको पूरा ज्ञान था। वे सच्चे त्यागी और आत्मज्ञानी थे, इसलिए सभी विषयों में मूल तथ्य...

Read Free

भक्त सुधन्वा By Renu

चम्पकपुरीके राजा हंसध्वज बड़े ही धर्मात्मा, प्रजापालक, शूरवीर और भगवद्भक्त थे। उनके राज्यकी यह विशेषता थी कि राजकुल तथा प्रजाके सभी पुरुष 'एकपत्नीव्रत' का पालन करते थे। जो...

Read Free

श्री ब्रह्माजी By Renu

श्रीब्रह्माजी, श्रीनारदजी, श्रीशंकरजी, श्रीसनकादिक, श्रीकपिलदेवजी महाराज, श्रीमनुजी, श्रीप्रह्लादजी, श्रीजनकजी, श्रीभीष्मपितामहजी, श्रीबलजी, महामुनि श्रीशुकदेवजी और श्रीधर्मराजजी—य...

Read Free

सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र By Renu

सूर्यवंशमें त्रिशंकु नाम के एक प्रसिद्ध चक्रवर्ती सम्राट् हो गये हैं, जिन्हें मुनि विश्वामित्र ने अपने योगबल से सशरीर स्वर्ग भेजने का प्रयत्न किया था। महाराज हरिश्चन्द्र उन्हीं त्र...

Read Free

शारदीय नवरात्रि By Sudhir Srivastava

आलेख शारदीय नवरात्रि शारदीय नवरात्रि देवी पूूजा को समर्पित एक हिन्दू त्योहार है, जो शरद ऋतु में मनाया जाता है। हिन्दू परम्परा में नवरात्रि का त्योहार, वर्ष में दो बार प्रमुख रूप से...

Read Free

मां लक्ष्मी यू आर ग्रेट By Wajid Husain

वाजिद हुसैन की कहानीदिनभर ऑफिस की बकझक से दिमाग वैसी खाली हो रहा था। शरीर भी थका हुआ था। रात के खाने की चिंता सता रही थी, फिर सोचा, 'खाना- पीना तो मर्द के दम से होता है, अकेली...

Read Free

वेद, पुराण, उपनिषद चमत्कार या भ्रम - भाग 16 By Arun Singla

शिष्य : जीवन जानने से क्या प्रयोजन है ? गुरु : जीवन जानने की दो विधि, दो रास्ते है, एक है पद्धति है धर्म द्वारा जानना और दुसरी पद्धति है विज्ञान द्वारा जानना. धर्म जोड़ कर जानता है,...

Read Free

श्राद्ध पक्ष में सनातन संस्कृति का महत्व By Sudhir Srivastava

आलेख श्राद्ध पक्ष का सनातन संस्कृति में महत्व हमारा देश और हिन्दू संस्कृति सनातन संस्कृति की मान्यताओं को गहराई से आत्मसात कर सतत् सदियों से अनवरत आगे बढ़ रहा है। कहने को हम आधुनिक...

Read Free

श्री नामदेव जी By Renu

जल-थल और अग्नि आदि में सर्वत्र अपने इष्ट का ही दर्शन करूंगा — यह प्रतिज्ञा श्री नामदेव जी की उसी प्रकार निभी, जैसे कि त्रेतायुग में नरसिंह भगवान् के दास श्री प्रह्लाद जी की निभी थी...

Read Free

मेरे प्रभु श्री राम आए हैं ...... By Purnima Kaushik

22 जनवरी का अत्यंत खुशियों से भरा दिन था, जिसका इंतजार अनेक वर्षों से भारत का प्रत्येक नागरिक कर रहा था। इस शुभ अवसर का इंतजार न जाने कितने वर्षों से सभी राम भक्त कर रहे थे। हमारे...

Read Free

ईश्वर या धन? By Diyac

ईश्वर या धन? आप क्या चाहते हैं?एक बार एक नगर के राजा के यहाँ पुत्र पैदा हुआ। इस खुशी में राजा ने पूरे नगर में घोषणा करवा दी कि कल पूरी जनता के लिए राजदरबार खोल दिया जायेगा। जो व्यक...

Read Free

ईश्वर तू ही अन्नदाता है By Diyac

ईश्वर तू ही अन्नदाता हैकिसी राज्य में एक प्रतापी राज्य हुआ करता था। वो राजा रोज सुबह उठकर पूजा पाठ करता और गरीबों को दान देता। अपने इस उदार व्यवहार और दया की भावना की वजह से राजा प...

Read Free

एक बोरी गेहूँ By Diyac

एक बोरी गेहूँचंपक बाल कहानीप्रतापनगर एक बहुत ही संपन्न राज्य था। वहाँ के राजा बहुत ही प्रतापी थे और प्रजा का पूरा ख्याल रखते थे। राजा ने पूरे जीवन प्रजा की मन से सेवा की थी लेकिन अ...

Read Free

श्रीमद्भगवद्गीता मेरी समझ में - अध्याय 8 By Ashish Kumar Trivedi

अध्याय 8 अक्षर ब्रह्म योगअध्याय सात में ईश्वर के व्यापक रूप का वर्णन किया गया था। अब अर्जुन के मन में कई सारे प्रश्न उठ रहे थे। उसने श्रीकृष्ण के समक्ष अपने प्रश्न रख दिए। अर्जुन न...

Read Free

एक फकीर हुआ, अगस्तीन By SR Daily

एक फकीर हुआ, अगस्तीन।एक फकीर हुआ, अगस्तीन। कोई तीस वर्षों से परमात्मा की खोज में था।भूखा और प्यासा, रोता और चिल्लाता और प्रार्थना करता। एक क्षण का विश्राम न लेता। जीवन का कोई भरोसा...

Read Free

बजरंग बाण से अद्भुत लाभ By Captain Dharnidhar

गायत्री मंत्र को दुनिया का सबसे प्रभावी मंत्र माना जाता है लेकिन गायत्री मंत्र की तरह और भी प्रभावशाली मंत्र एवं पाठ है । जैसे - हनुमान चालीसा, बजरंग बाण। हनुमान जी एक ऐसे देवता है...

Read Free

चंद्रिका - 1 By Sonali Rawat

नीले पहाड़ों के पीछे एक राज्य था जो सुख और समृद्धि से भरा हुआ था जिसके लोग एक दूसरे की मदद करते थे और सभी के बीच बहुत बर्फ थी जिसके कारण सभी लोग राजा और उसके परिवार का बहुत सम्मान...

Read Free

विक्रम और बेताल - 6 - लड़की किसको मिलनी चाहिए? By Your Dreams

लड़की किसको मिलनी चाहिए? उज्जैन में महाबल नाम का एक राजा रहता था। उसके हरिदास नाम का एक दूत था जिसके महादेवी नाम की बड़ी सुन्दर कन्या थी। जब वह विवाह योग्य हुई तो हरिदास को बहुत चि...

Read Free

लोक कथा - 2 By Sonali Rawat

समझदार किसान और जादुई बीजएक समय की बात है, हरे-भरे खेतों के बीच बसे एक शांतिपूर्ण गाँव में, राम नाम का एक बुद्धिमान किसान रहता था। राम को उनकी कड़ी मेहनत के लिए जाना जाता था, लेकिन...

Read Free

कुछ अंजान जिंदगी की कहानियां - 3 By Your Dreams

द्रुपद का पुत्रेष्टि यज्ञ प्राचीन भारत में पुत्रेष्टि यज्ञ के द्वारा तेजस्वी पुत्र प्राप्त करने की प्रथा थी| जब किसी बहुत बड़े नृपति को संतान का अभाव दुख देता था, तो वह ऋषियों और...

Read Free

शिवलिंग By Jay Dave

शिवलिंग पर चढाये जल को लाँघा नही जाता और शिवलिंग की परिक्रमा आधी की जाती है. शिवलिंग पर अर्पित नैवेद्य भी नहीं खाया जाता उसे गऊ वंश को खिला दिया जाता है क्योंकि उनमें ही इसकी शक्ति...

Read Free

गायत्री मंत्र से बदलते हैं विचार By Captain Dharnidhar

गायत्री मंत्र को महामंत्र कहा जाता है ,क्योंकि गायत्री मंत्र अपने आप में ही महामंत्र है , गायत्री मंत्र को मंत्रो का मंत्र कहा जाता है ,गायत्री मंत्र के हर अक्षर में बीज मंत्र है अ...

Read Free

सब कुछ तुम्हारे हाथ में है! By Your Dreams

सब कुछ तुम्हारे हाथ में है!एक आदमी रेगिस्तान से गुजरते वक़्त बुदबुदा रहा था, “कितनी बेकार जगह है ये, बिलकुल भी हरियाली नहीं है…और हो भी कैसे सकती है यहाँ तो पानी का नामो-निशान भी नह...

Read Free

एक योगी की आत्मकथा - 40 By Ira

मेरा भारत लौटनाअत्यंत आनन्द के साथ मैं भारत की पवित्र हवा में फिर एक बार श्वास ले रहा था । हमारा जहाज “राजपूताना” २२ अगस्त १९३५ को मुंबई के विशाल बन्दरगाह में आकर खड़ा हो गया। जहाज...

Read Free

राम नाम की ओषधि काटत सभी क्लेश By prabha pareek

         राम नाम की औषघि काटे सभी कलेश गौस्वामी तुलसी दास जी कहते हैं कि मनुष्य का तन शरीर खेत है ओर मन ,वचन, कर्म किसान है। जैसे किसान बीज बोता है वैसे ही हम मन, वचन और कर्म से बी...

Read Free

गायत्री जप कभी निष्फल नही जाता By Captain Dharnidhar

हिंदू धर्म मे गायत्री मंत्र बहुत शक्तिशाली मंत्र है इसकी मदद से हम अपनी जिंदगी से जुड़ी हर समस्या का हल कर सकते हैं ।गायत्री मंत्र का जाप करने से मनोकामनाओं की पूर्ति होती है. सांस...

Read Free

हनुमान जी की उड़ने की गति  By Binal Jay Thumbar

बचपन में जब हमारे बड़े हमें रामायण की कहानियां सुनाया करते थे तब हमें लक्ष्मण जी के बेहोश होने पर हनुमान जी का संजीवनी बूटी लेने जाना व जाने का किस्सा सुनाया जाता था जिसमे संजीवनी...

Read Free

भक्त राजा श्रीकुलशेखर जी By Renu

कोल्लिनगर (केरल) के राजा दृढव्रत बड़े धर्मात्मा थे, किंतु उनके कोई सन्तान न थी। उन्होंने पुत्र के लिये तप किया और भगवान् नारायण की कृपा से द्वादशी के दिन पुनर्वसु नक्षत्रमें उनके घ...

Read Free

सेवा और सहिष्णुता के उपासक संत तुकाराम - 11 By Charu Mittal

शिवाजी महाराज को उपदेशतुकाराम महाराज कोरे भजनानंदी नहीं थे, वरन् नैतिक, सामाजिक कर्तव्यों का भी उनको पूरा ज्ञान था। वे सच्चे त्यागी और आत्मज्ञानी थे, इसलिए सभी विषयों में मूल तथ्य...

Read Free

भक्त सुधन्वा By Renu

चम्पकपुरीके राजा हंसध्वज बड़े ही धर्मात्मा, प्रजापालक, शूरवीर और भगवद्भक्त थे। उनके राज्यकी यह विशेषता थी कि राजकुल तथा प्रजाके सभी पुरुष 'एकपत्नीव्रत' का पालन करते थे। जो...

Read Free

श्री ब्रह्माजी By Renu

श्रीब्रह्माजी, श्रीनारदजी, श्रीशंकरजी, श्रीसनकादिक, श्रीकपिलदेवजी महाराज, श्रीमनुजी, श्रीप्रह्लादजी, श्रीजनकजी, श्रीभीष्मपितामहजी, श्रीबलजी, महामुनि श्रीशुकदेवजी और श्रीधर्मराजजी—य...

Read Free

सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र By Renu

सूर्यवंशमें त्रिशंकु नाम के एक प्रसिद्ध चक्रवर्ती सम्राट् हो गये हैं, जिन्हें मुनि विश्वामित्र ने अपने योगबल से सशरीर स्वर्ग भेजने का प्रयत्न किया था। महाराज हरिश्चन्द्र उन्हीं त्र...

Read Free

शारदीय नवरात्रि By Sudhir Srivastava

आलेख शारदीय नवरात्रि शारदीय नवरात्रि देवी पूूजा को समर्पित एक हिन्दू त्योहार है, जो शरद ऋतु में मनाया जाता है। हिन्दू परम्परा में नवरात्रि का त्योहार, वर्ष में दो बार प्रमुख रूप से...

Read Free

मां लक्ष्मी यू आर ग्रेट By Wajid Husain

वाजिद हुसैन की कहानीदिनभर ऑफिस की बकझक से दिमाग वैसी खाली हो रहा था। शरीर भी थका हुआ था। रात के खाने की चिंता सता रही थी, फिर सोचा, 'खाना- पीना तो मर्द के दम से होता है, अकेली...

Read Free

वेद, पुराण, उपनिषद चमत्कार या भ्रम - भाग 16 By Arun Singla

शिष्य : जीवन जानने से क्या प्रयोजन है ? गुरु : जीवन जानने की दो विधि, दो रास्ते है, एक है पद्धति है धर्म द्वारा जानना और दुसरी पद्धति है विज्ञान द्वारा जानना. धर्म जोड़ कर जानता है,...

Read Free

श्राद्ध पक्ष में सनातन संस्कृति का महत्व By Sudhir Srivastava

आलेख श्राद्ध पक्ष का सनातन संस्कृति में महत्व हमारा देश और हिन्दू संस्कृति सनातन संस्कृति की मान्यताओं को गहराई से आत्मसात कर सतत् सदियों से अनवरत आगे बढ़ रहा है। कहने को हम आधुनिक...

Read Free