×

आध्यात्मिक कथा ओनलाईन किताबें पढ़ें अथवा हमारी ऐप डाऊनलोड करें

    धर्म और जात
    by Veerendra Thawre
    • (5)
    • 171

    नमस्कार दोस्तों मैं वीरेंद्र मेहरावैसे तो धर्म  जिसके माध्यम से हम अपने जीवन को सादगी और सुचारू रूप से चलाने का कार्य करते हैं परंतु यही धर्म राष्ट्र की प्रगति ...

    ज्ञान की पिपासा...
    by shekhar kharadi Idariya
    • (7)
    • 221

    युरोप के पुर्वे प्रान्त में एक छोटा सा सुखी दंपती रहता था ।जिनका नाम था मिस पिन्टो और मिसिस हेनरी जो अपनी जिंदगी का निर्वाह खेतीबाडी से करते थे ...

    भैया संगम केहर बा?
    by r k lal
    • (17)
    • 233

    भैया संगम केहर बा?आर0 के0 लालप्रयागराज में लगने वाले कुंभ के संगम की बात आज पूरे विश्व में चर्चा का विषय है। उस दिन दिल्ली से प्रयागराज आते समय ...

    प्रार्थना ईश्वरीय शक्ति की तरंगों का एक स्वरूप
    by Bhupendra Kumar Dave
    • (6)
    • 322

    प्रार्थना ईश्वरीय शक्ति की तरंगों का एक स्वरूप                                                                      ...... भूपेन्द्र कुमार दवे   जब प्रकाश की किरणें अंतः में यकायक फूट पड़ती हैं] तब आत्मशक्ति लयबद्ध ...

    मूर्ति
    by Nirpendra Kumar Sharma
    • (21)
    • 284

    आज फिर खाना नहीं बना फूलो?? हारा थका लालू झोंपड़ी के बाहर ठंडे चूल्हे को गीली आंखों से देखता हुआ बोला। कहाँ से बने कित्ते दिन है गए तुम ...

    ब्रह्मचर्य...
    by Ajay Amitabh Suman
    • (57)
    • 719

    गुरुदेव क्या भोग और स्त्री का उपभोग करते हुए परम् ब्रह्म का साक्षात्कार किया जा सकता है, मुमुक्षु ने पूछा? बिल्कुल किया जा सकता है मुमुक्षु। गुरुजी ने कहा। अनेक ...

    प्रेम के साथ प्रयोग...
    by Ajay Amitabh Suman
    • (18)
    • 214

    लोग उस पर हंस रहे थे। वह  बुजुर्ग चुुपचाप उनके ताने सुन रहा था। बस कंडक्टर उसे बार-बार किराए के पैसे मांग रहा था। वह बुजुर्ग आदमी बार बार बोल रहे ...

    ईश्वर की मर्जी
    by Ajay Amitabh Suman
    • (14)
    • 265

    ऐसा आपने लोगों को अक्सर कहते हुए सुना होगा कि ईश्वर की मर्जी के बिना एक पत्ता भी नहीं हिल सकता। इस सिद्धांत को मानने वाले लोगों के अनुसार, ...

    ज्ञानी भिखारी
    by Ashish Kumar Trivedi
    • (41)
    • 623

    ज्ञानी भिखारी ऋषि शौनक तथा अभिप्रत्तारी दोनों वायु देव के उपासक थे। एक दिन दोपहर को जब वह दोनों भोजन करने बैठे तो वहाँ एक ब्रह्मचारी आया और भिक्षा ...

    क्रोध पर विजय
    by Ajay Amitabh Suman
    • (53)
    • 742

    रमेश बहुत ही मेहनती वकील थे।वह अपने काम को ईमानदारी और परिपूर्णता से करना चाहते थे। एक सीनियर वकील के अंदर में वह काम करते थे। वह दिल्ली में काम ...

    ध्यान और पुनर्जन्म
    by Ajay Amitabh Suman
    • (42)
    • 555

    जब जब कोई मेरे अहम पर चोट पहुँचाता, तब तब मेरे मन में बैर उपजता। तब तब ध्यान के समय ये नकारात्मक विचार मुझे परेशान करने लगते। मेरे अहम ...

    मिलारेपा:एक हत्यारा बुद्ध
    by Ajay Amitabh Suman
    • (25)
    • 283

    मिलारेपा तंत्र साधना करता था और उसी वजह से उसकी मा ने उसके घर से बहार निकाल दिया था जब मिलारेपा तंत्र का ज्ञान ले कर घर लौटा ...

    दोस्त गणेशा
    by Varuna Mittal
    • (6)
    • 108

    ट्रिन-ट्रिन, ट्रिन-ट्रिन... अलार्म की आवाज़ सुनते ही अर्णव झट-से उठकर बैठ गया। इतने में मम्मी भी अर्णव के कमरे में आ पहुंची और बोली, ‘‘अरे, क्या बात है अर्णव? ...

    लिविंग टेड्डी एलिफेंट
    by Chandresh Kumar Chhatlani
    • (0)
    • 47

    "ट्रिन ट्रिन" घंटी बजते ही रानू और शानू दोनों दरवाज़े की तरफ भागीं। डैडी के घर आने का वक्त हो चला था और हमेशा की तरह जो बेटी दरवाज़ा ...

    गणेश
    by vinod kumar dave
    • (5)
    • 112

    कलियुग का आरंभ हो चुका था, गोमती नदी के किनारे कुटिया बनाकर रहने वाला एक गरीब परिवार अपनी विपन्न स्थिति से त्रस्त था। छोटा सा परिवार था, माता पिता ...